जानिए कब हुआ था ईमेल और डिजिटल कैमरा का आविष्कार, पीएम मोदी के बयान से हुआ विवाद

जानिए कब हुआ था ईमेल और डिजिटल कैमरा का आविष्कार, पीएम मोदी के बयान से हुआ विवाद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक न्यूज चैनल को दिया गया इंटरव्यू सोशल मीडिया पर काफी चर्चा में है। मोदी ने इंटरव्यू में कहा कि पहली बार उन्होंने 1987-88 में डिजिटल कैमरे और ई-मेल का इस्तेमाल किया था। मोदी ने अपने इंटरव्यू में कहा कि 1987-88 में उन्होंने डिजिटल कैमरा और ईमेल का इस्तेमाल किया था।

पीएम मोदी ने कहा था, ''एक रैली के दौरान मैंने अपने डिजिटल कैमरा से फोटो खींचा था और उसे ईमेल के जरिए दिल्ली भेजा था। यह बात साल 1987-88 की है।''

पीएम मोदी के इस बयान से लोगों में यह जानने की उत्सुकता बढ़ गई है कि आखिर सबसे पहला ईमेल कब किया गया था। इसके अलावा, भारत में इंटरनेट शुरू कब हुआ। तो आइए हम आपको बता रहे हैं इसके बारे में...

कब किया गया सबसे पहला ईमेल
दुनिया का सबसे पहला ईमेल अमेरिका के कैम्ब्रिज नाम की जगह पर रे टॉमलिंसन नामक इंजीनियर ने साल 1971 में एक ही कमरे में रखे दो कंप्यूटरों के बीच भेजा था। ये दोनों कंप्यूटर नेटवर्क अर्पानेट से जुड़े थे। अर्पानेट का मतलब Advanced Research Projects Agency Network है। इसकी मदद से मैसेज एक जगह से दूसरे जगह भेजा जाता था।

इसके बाद साल 1983 जनवरी में आधुनिक इंटरनेट का जन्म हुआ था। जिसके बाद 1995 में भारत में पहली बार इंटरनेट का इस्तेमाल हुआ था। बता दें कि विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL) की मदद से इंटरनेट को यूजर्स के लिए लाया गया था।

बिल क्लिंटन ने अपनी अध्यक्षता में भेजा था पहला ईमेल
अमेरिका के 42वें राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने अपनी अध्यक्षता के दौरान Email भेजने वाले पहले राष्ट्रपति बने थे। क्लिंटन ने 7 नवंबर, 1998 को यह ईमेल अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन को ये ऐतिहासिक ईमेल भेजा था।

वहीं अगर डिजिटल कैमरे की बात करें तो मोदी ने अपने इंटरव्यू में बताया कि 1988 में डिजिटल कैमरे का पहली इस्तेमाल किया था। उन्होंने अपने बयान में कहा कि , "शायद, मैंने पहली बार डिजिटल कैमरा का उपयोग किया था"।

1975 में आया था पहला इलेक्ट्रॉनिक कैमरा
आपको बता दें कि इंजीनियर स्टीवन सैसन ने सबसे पहला इलेक्ट्रॉनिक कैमरा लॉन्च किया था। यह कैमरा साल 1975 में आविष्कार किया गया था। वहीं, बिजनेस के लिए सबसे पहला डिजिटल कैमरा 1990 में पेश हुआ था।
 
बता दें कि इस कैमरे में एक CCD इमेज सेंसर का इस्तेमाल किया जाता था, जिसके जरिए तस्वीरों को डिजिटल रूप में स्टोर किया जाता था।