'मिशन शक्ति' के जरिए अंतरिक्ष में बजा भारत का डंका, जानिए इससे जुड़ी बड़ी बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम महत्वपूर्ण संदेश देते हुए मिशन 'शक्ति' के बारे में बताया। उन्होंने कहा कहा कि ये बेहद कठिन ऑपरेशन था लेकिन भारत में निर्मित ए-सेट सैटेलाइट के पराक्रम के द्वारा इसे सिद्ध किया गया। पीएम मोदी ने बताया कि हमारे वैज्ञानिकों ने 300 किमी दूर अंतरिक्ष में एलईओ (लो अर्थ ऑर्बिट) सैटेलाइट को मार गिराया है। ये कारनामा करने बाद भारत दुनिया की अंतरिक्ष महाशक्ति की श्रेणी में आ गया है। अमेरिका, चीन और रूस के बाद भारत चौथा देश है जिसने यह सिद्धि प्राप्त की है।

पीएम मोदी ने बताया कि मिशन शक्ति अत्यंत कठिन ऑपरेशन था। जिसमें बहुत ही उच्च कोटि की तकनीकि क्षमता की आवश्यकता थी। वैज्ञानिकों द्वारा सभी निर्धारित लक्ष्य और उद्देश्य प्राप्त कर लिए गए। ये पराक्रम भारत में ही निर्मित ए-सेट सैटेलाइट द्वारा सिद्ध किया गया है।

इन दो वजहों से खास है मिशन शक्ति
मिशन शक्ति दो वजहों से बेहद खास है। पहली, इसकी सफलता ने भारत को चौथा ऐसा देश बना दिया है जिसके पास आधुनिक और विशेषीकृत तकनीकि है। दूसरा, यह पूरा प्रयास स्वदेशी है। अंतरिक्ष में भारत बड़ी शक्ति के रूप में उभरा है। भारत अब ज्यादा मजबूत और सुरक्षित हुआ है। इससे शांति और सद्भावना के लिए मदद मिलेगी।