इन 5 कामों को करने वाले व्यक्ति से नाराज हो जाते हैं शनिदेव, क्रूर दृष्टि से बचाव के लिए करें ये तीन काम

इन 5 कामों को करने वाले व्यक्ति से नाराज हो जाते हैं शनिदेव, क्रूर दृष्टि से बचाव के लिए करें ये तीन काम

धर्म शास्त्रों में शनि देव को न्याय का देवता माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि वह व्यक्ति के कर्मों के अनुसार उसे फल देते हैं इसलिए बुरा करने वाले के साथ बुराऔर अच्छा कर्म करने वालों के लिए सफलता का मार्ग खोल देते हैं। वे कौन से कार्य हैं जिन्हें करने से शनि देव क्रोधित हो जाते हैं, अगर आप यह जान लें तो उनकी क्रूर दृष्टि से खुद को बचा सकते हैं। आइए जानते हैं:

1) लोगों का अपमान करने वाले
जो लोग अपने से बड़े, छोटे या किसी गरीब का अपमान करते हैं, न्याय के देवता शनि देव उसपर अपनी क्रूर दृष्टि बरसाते हैं। इसलिए कभी भी अपने से बड़ों के अलावा छोटे और असहाय लोगों का अपना ना करें। उनसे ऊंची आवाज में बात ना करें

2) क्रोध करने वाले
बेवजह गुस्सा करने वाले पर भी अपना कहर बरसाते हैं शनि देव। गुस्से में व्यक्ति कुछ भी कहने से पहले सोचता नहीं है। गुस्से पर अपना नियत्रण बनाए रखने वाले व्यक्ति से ही खुश रहते हैं शनि देव। 

3) मजबूर लोगों की सहायता ना करने वाले
जो लोग किसी गरीब या असहाय का मजाक बनाते हैं, उनकी मदद नहीं करते, ऐसे लोगों को शनि देव दंड देते हैं। शनि देव की क्रूर दृष्टि से कार्यों में असफलता प्राप्त होने लगती है।

4) ब्राह्मणों का अपमान करने वाले
ब्राह्मणों का सत्कार ना करना, घर आए ब्राह्मण को खाली हाथ भेज देना, इस तरह के कुकर्म करने वाले व्यक्ति से शनि देव नाराज हो जाते हैं और उसे दंड देते हैं

5) शनिवार को इन गलतियों को करने वाले
शनिवार भगवान शनी का दिन होता है। इसदिन कुछ गलतियों को करने से बहे वे नाराज हो जाते हैं। शनिवार को तेल खरीदना, लोहा खरीदकर घर लाना, जूते-चप्पल खरीदना, आदि काम नहीं करने चाहिए। शास्त्रीय मान्यतानुसार ये कार्य अशुभ होते हैं।

यह भी पढ़ें: अक्षय तृतीया 2019: चार बड़े ग्रहों के शुभ संयोग के साथ आई अक्षय तृतीया की तिथि, जानें पूजा एवं सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त

शनि देव की क्रूर दृष्टि का शिकार होने पर ये तीन काम करें:
- अगर शनि की क्रूर दृष्टि का शिकार हो जाएं तो हर शनिवार शनि मंदिर जाकर तेल चढ़ाएं
- शनिवार के दिन काले तिल का दान करें
- हनुमान चालीसा का पाठ करने से भी शनि दोष शांत होता है