नया घर लेते समय गलती से भी ना करें इन 4 वास्तु शास्त्र नियमों की अनदेखी, वरना बाद में होगा पछतावा

नया घर लेते समय गलती से भी ना करें इन 4 वास्तु शास्त्र नियमों की अनदेखी, वरना बाद में होगा पछतावा

आजकल के महंगाई के जमाने में खुद का घर लेना एक सपने जैसा हो गया है। लेकिन फिर भी इस सपने को साकार करने के लिए लोग जी-तोड़ मेहनत करते हैं और आखिरकार घर लेने के फैसले पर पहुँचते हैं। घर लेते समय वे प्रॉपर्टी के दामों से लेकर अपने बजट और आसपास की लोकेलिटी पर भी ध्यान देते हैं। अगर आप भी घर लेने का सोच रहे हैं तो इन बातों पर जरूर गौर कर रहे होंगे। लेकिन क्या घर लेते समय आपने वास्तु शास्त्र के नियमों के बारे में सोचा है? 

वास्तु शास्त्र जो कि हमें पॉजिटिव और निगेटिव एनर्जी का पाठ पढ़ाता है, इसे फॉलो करने से घर और परिवार की कई कठिनाईयां कम की जा सकती हैं। घर के प्रवेश द्वार से लेकर बेडरूम, लिविंग रूम, सीढ़ियों, रसोए घर, सभी जगह वास्तु नियमों के प्रयोग से घर को वास्तु दोष रहित बनाया जाता है। इस सबसे पूर्व अगर घर खरीदते समय ही वास्तु नियमों का पालन किया जाए तो भविष्य में आसानी होती है। तो आइए जानते हैं कि घर लेते समय किन वास्तु नियमों का पालन करना चाहिए:

1) घर की जमीन
अगर आप जड़ से मकान ले रहे हैं यानी जमीन खरीद रहे हैं और उसके बाद उसपर अपना खुद का मकान बनवाएंगे तो उस जमीन को लेते समय कुछ वास्तु नियमों को ध्यान में रखें। सबसे पहले जमीन की मिट्टी चेक करें। वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर जमीन लाल, पीली या पथरीली है तो उसे ना खरीदें। ऐसी जमीन पर मकान बनाने और उस मकान में रहेने से परिवार के सदस्यों का जीवन अस्थिर हो जाता है। 

2) जमीन पर कोयला, भूसा
जिस जमीन में कोयला या राख मिला हुआ हो, ऐसी जमीन खरीदना भी अशुभ माना जाता है। इसके अलावा अगर जमीन में हड्डियां मिलें, तो इस तरह की जमीन बिलकुल ना खरीदें। यह जमीन आपके आने वाले भविष्य को बर्बाद कर सकती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार इस तरह की जमीन को शुद्ध करने के लिए पूर्ण शास्त्रीय विधि अपनाई जानी चाहिए, इसके बाद ही इसपर मकान बनाया जा सकता है।

3) तिकोना घर, प्‍लॉट
अगर जमीन की बजाय आप सीधा मकान या प्‍लॉट ले रहे हैं तो ध्यान दें कि कहीं वो तिकोना तो नहीं है। वास्तु शास्त्र के अनुसार तिकोना मकान अशुभ होता है। ऐसे घर में रहने वाले सदस्यों को जीवन में सफलता पाने में कई कठिनाईयां होती हैं। लक्ष्य के करीब पहुंचकर भी यह वास्तु दोष उन्हें पीछे कर देता है। इसलिए इस तरह का मकान या प्‍लॉट लेने से बचना चाहिए। 

4) घर की लोकेशन
अक्सर लोग बजट के अनुसार लोकेशन चुनते हैं और जब घर पसंद आ जाता है तो डील फाइनल कर लेते हैं। लेकिन ऐसा करने से पहले मकान के आसपास की जगहों को देखना ना भूलें। जिस मकान को आप खरीदने जा रहे हैं उसके आसपास श्मशान भूमि नहीं होनी चाहिए। यदि हो भी तो कम से कम एक किलोमीटर की दूर पर हो। इसके अलावा मकान के आसपास अधिक शोर भेई होना वास्तु दोष उत्पन्न करता है।